बाह रे दुनिया बाह बाह….Wah rey Duniya Wah wah

Badal te hue….tum

बदल ते हुए……तुम Kabhi ye bhi lagta tha ki कभी ये भी लगता था कीTum nahi badlo ge chahe duniyaतुम नहि बदलो गे चाहे दुनिया बदल ना जाए

Kyu na badal jaye

क्यूँ ना बदल जाए

Ye bhi dekha ke jab hamey sahurat

ये भी देखा के जब हमें सौहरत

Milta tha wo tumhi the jo

मिलता था वो तुम्हीं थे जो Badh chadh ke tarifon ki barishबढ़ चढ़ के तारीफ़ों के बारिश Bhi kartey the per aaj aisa kyuभी करते थे पर आज ऐसा क्यूँ

Lag raha hey ki wo din aaj kitna badal gaya
लग रहा हे की वो दिन आज कितना बदल गया

T
o nishan tak

तुम्हारे तो नामो निशान तक
Ajj dekhne ko nahi milta

आज देखने को नहीं मिलताKahin ye
to nahi

कहीं ये जलन तो नहीं
पर यद ग़लत
ng> Per jab soch ta hun पर जब भी सो

Hasi ata hey ke mey toहँसी आता हे के में Ladhta tha ki mey d
t; ड़ता त। की में ख़ुद सेJit sakun p ayad s
aithe

जीत सकूँ पर तुम सायद सोच बैठे

Ke hum kahin tumse age na badh jayen

के हम कहीं तुम से आगे ना बढ़ जायें
Wah re Duniya wah wah
बाह रे दुनिया बाह बाह

Teri Andaz ki kya kehna

ते
दाज़ कि क्या कहना

</stron

My Blogs at

www.clicksbysiba.wordpress.com

>अन्दाज़ कि क्या कहना
iveSiba< trong>Check Blogs ong> www.clicsbysiba.wordpress.com

2 thoughts on “बाह रे दुनिया बाह बाह….Wah rey Duniya Wah wah”

Leave a Reply